What is backup in hindi

हेलो दोस्तों आपका इस ब्लॉग में हम स्वागत करते है आज हम आपको इस पोस्ट में बताएँगे What is backup in hindi दोस्तों कई बार हमने बैकअप शब्द सुना है लेकिन इसके बारे में अच्छे से जानकारी नहीं होने से हमें ज्ञान नहीं होता है 

दोस्तों कंप्यूटर से जुड़े  हमने अपने ब्लॉग पर बहुत से पोस्ट लिखे है जैसे excel और ms word में क्या अंतर है और भी कई सारी पोस्ट लिखी हुई है बिना और टाइम वेस्ट किये जानते है बैकअप क्या है

What is backup in hindi

 कंप्यूटर तकनीक में बैकअप से आशय कंप्यूटर फाइलों की कॉपी अपने मुख्य कंप्यूटर की हार्ड डिस्क के अतिरिक्त किसी अन्य द्वितीयक संग्रहण इकाई ( Secondary Storage Device) जैसे External Hard Disk, मैग्नेटिक टेप, पेन ड्राइव या ऑनलाइन नेटवर्क की किसी अन्य  data Storage प्रणाली जैसे Cloud आदि पर सुरक्षित रखने से हैं, ताकि दुर्घटनावश या किसी वायरस आदि के आक्रमण से मुख्य कंप्यूटर की हार्ड डिक्स से डाटा नष्ट या करप्ट हो जाए तो उसे मूल रूप से पुनः प्राप्त किया जा सके।

इस प्रकार बैकअप हमारी कंप्यूटर फाइलों की अतिरिक्त प्रतियां हैं जो किसी अन्य स्थान पर भविष्य के लिए स्टोर कर दी जाती है। अतः बैकअप हमारे कंप्यूटर डाटा का अंतिम सुरक्षा उपाय हैं।

बैकअप के प्रकार:-

  • कॉपी बैकअप – इस बैकअप में हमारी चुनी हुई फाइलों की कॉपी कर उन्हें स्टोर कर लिया जाता है परंतु डोस सिस्टम इन बैकअप हो चुकी फाइलों को इस रूप में चिन्हित नहीं करता है। इस बैकअप मैं चुनी हुई फाइलों की एक अतिरिक्त प्रति बन जाती हैं।
  • क्रश कंसिस्टेंसी बैकअप ( Crash Consistent Backup ) – यह छाया प्रति ब्रेकअप का एक ऐसा फीचर है जो निरंतर यह सुनिश्चित करता है की चुनी हुई फाइलों का व्यवस्थित रूप से ब्रेकअप हुआ है या नहीं । इस प्रकार इस बैकअप में सावधानीपूर्वक सभी फाइलों का बैकअप तैयार होता रहता है।
  • दैनिक बैकअप ( Daily Backup ) – ऐसे कंप्यूटर फाइलें जिनके डाटा में रोजाना परिवर्तन होता है उनका दैनिक रूप से लिया गया बैकअप दैनिक बैकअप कहलाता है।
  • डिफरेंशियल बैकअप ( Differential backup ) – यह बैकअप का वह रूप है जिसमें केवल उन्हीं फाइलों का बैकअप पुनः लिया जाता है जिनमें पिछले ब्रेकअप के बाद में कोई परिवर्तन हुआ है।

 

डाटा रिस्टोर ( Data Restore )

डाटा रिस्टोर का आशय नष्ट हो चुके या करप्ट हो चुके कंप्यूटर डाटा को सेकेंडरी मेमोरी में लिए गए बैकअप से कॉपी कर पुनः मूल स्थान (Original Location) पर या नए स्थान पर स्थापित करने से है। कंप्यूटर पर कार्य करते हुए किसी भी कारण से कभी-कभी इन में उपस्थित डाटा डिलीट हो जाते हैं या वायरस आदि के आक्रमण से नष्ट या करप्ट हो जाते हैं या किसी अनधिकृत व्यक्ति द्वारा चुरा लिए जाते हैं तो उनको खोए क्या नष्ट हुए डाटा को पुनः प्राप्त करना ही डाटा रीस्टोरेशन प्रक्रिया कहलाती है कंप्यूटर डाटा की रिकवरी या रीस्टोरेशन की जरूरत निम्न परिस्थितियों में होती है- 
  1. गलती से डाटा डिलीट हो गए हो या डैमेज हो गए हो।
  2. कंप्यूटर पर वायरस आदि के आक्रमण से डाटा नष्ट हो गए हो या करप्ट हो गए हो|
  3. कंप्यूटर या उसकी हार्ड डिक्स चोरी हो गई हो|
  4. हार्ड डिस्क करप्ट हो गई हो|

 

डाटा रीस्टोरेशन तेजू डाटा समाप्त या करप्ट हो गए हैं के स्थान पर सही डाटा की पुनर्स्थापना हो जाती है ताकि आगे का कार्य संभव हो सके|

डाटा रीस्टोरेशन के सही होने के लिए आवश्यक है कि-

  1. कंप्यूटर डाटा का समय समय पर बैकअप लेते रहें जो उस कंप्यूटर में अलग अन्य सेकेंडरी मेमोरी डिवाइस में हो|
  2. लिए गए बैकअप की समय-समय पर जांच करते रहना चाहिए कि वह सही तरीके से लिया जा रहा है एवं उसमें सभी डाटा सुरक्षित हैं|
  3. डाटा का बैकअप ऐसी डिवाइस में लेना चाहिए जो वायरस से रहित हो तथा उसमें डाटा पढ़ने योग्य वह सुरक्षित रहें|

 

आपने क्या सिखा 

इस पोस्ट में हमने बताया की बैकअप क्या होता है What is backup हमें आशा है की आपको ये पोस्ट काफी अच्छी लगी होगी आप हमें निचे कमेंट कर के अवश्य बताये पोस्ट को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *